Computer Notes In Hindi – कंप्यूटर नोट्स हिंदी में

कंप्यूटर क्या है (What is Computer)

Computer Notes In Hindi – दोस्तों हम बात करें आपसे कुछ साल पहले की तो उस वक्त हमारा कंप्यूटर उतना ज्यादा develop  नहीं था उस वक्त कंप्यूटर का इस्तेमाल सिर्फ कैलकुलेशन के लिए ही किया जाता था यानी कि जिस प्रकार आज हम एक छोटे  केलकुलेटर को इस्तेमाल में लाते हैं उसी प्रकार उस वक्त कंप्यूटर को एक केलकुलेटर के तौर पर इस्तेमाल में लाया जाता था लेकिन बाद में इसमें और भी नए नई तकनीक जुड़ती गई और आज या पूरी तरह से एक कंप्यूटर के रूप में उभर कर सामने आया है जिसमें कि हम दुनिया भर के सारे काम बहुत आसानी से कर सकते हैं आज मैं आपको Computer Notes In Hindi की पूरी जानकारी दूंगा

आज हम जाएंगे

  • Computer Notes In Hindi
  • Computer full form (कंप्यूटर फुल फॉर्म )
  • Computer keyboard shortcuts
  • Computer memory
  • Computer processor

कंप्यूटर के जनक

कम्प्यूटर का जनक चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage) को कहा जाता है,  चार्ल्स बैबेज जन्म लंदन में हुआ था

Computer full form – कंप्यूटर फुल फॉर्म

C – Commonly

O – Operated

M – Machine

P- Particularly

U- Used

T – Technical

E – Educational

R – Research

Computer parts name

  • Micro Processor
  • Cpu
  • Mother Board
  • UPS
  • Monitor
  • Keyboard
  • Mouse
  • Memory
  • Hard Disk Drive
  • Modem
  • Sound Card

कंप्यूटर को दो भागों में विभाजित किया गया है

  • Hardware
  • Software

Hardware

कंप्यूटर में हार्डवेयर उसे कहा जाता है जिसे हम बाहर से देख सकते हैं और छू सकते हैं जैसे कि

  • मॉनिटर – Monitor
  • कीबोर्ड – Keyboard
  • सीपीयू – CPU
  • माउस – Mouse

Monitor – बिल्कुल एक टीवी की तरह होती है जिसमें की कंप्यूटर की सारी चीजें हम अपनी आंखों से देख सकते हैं के उसके अंदर क्या काम हो रहा है

Keyboard – इसका प्रयोग कंप्यूटर के टाइपिंग में किया जाता है इसमें हम कंप्यूटर को लिखकर संदेश देते हैं और इसके बदले में कंप्यूटर हमें आउटपुट (output) देता है

Mouse – माउस कंप्यूटर को पूरी तरह से कंट्रोल करते है माउस के द्वारा ही हम पूरे कंप्यूटर को चला पाते हैं keyboard की तरह इसमें भी हम कंप्यूटर को इंस्ट्रक्शन देते हैं ताकि वह हमारे लिए काम कर सके

C.P.U – सीपीयू असल में एक डब्बे को कहा जाता है जिसके अंदर बहुत सारे छोटे-छोटे कॉम्पोनेंट मौजूद होते हैं और keyboard, mouse, monitor सारी चीजें सीपीयू से ही जुड़ी होती है दोस्तों ज्यादातर लोग यह सोचते हैं कि सीपीयू उस बड़े से डब्बे को कहा जाता है लेकिन ऐसा नहीं है सीपीओ एक छोटे से प्रोसेसर को कहा जाता है जो कि उस डब्बे के अंदर में मौजूद होता है

Hardware को दो भागों में बांटा गया है

  • Input device
  • Output device

Input device – कंप्यूटर के क्षेत्र में सबसे ज्यादा इस्तेमाल में लाए जाने वाले डिवाइस इनपुट डिवाइस है इसकी मदद से हम कंप्यूटर को कोई इंस्ट्रक्शन दे पाते हैं जैसे कि मान लीजिए कि आपको कंप्यूटर में 2 और 2 को जोड़ना है तो इस स्थिति में आप अपने कीबोर्ड में 2 + 2  लिखते हैं तो कंप्यूटर आपको स्क्रीन पर 4 दिखाता है तो यहां पर कीबोर्ड हमारा इनपुट डिवाइस है क्योंकि इसका इस्तेमाल करके हमने कंप्यूटर को इंस्ट्रक्शन दिया दोस्तों mouse, keyboard,microphone,pendrive इत्यादि यह सारे इनपुट डिवाइस है

Output device – दोस्तों इनपुट डिवाइस से जब हम कोई इंस्ट्रक्शन कंप्यूटर को देते हैं तो वह उसके बदले में हमें रिजल्ट देता है तो आखिर इस रिजल्ट को वह कैसे देगा ऊपर के उदाहरण में मैंने आपको बताया कि इनपुट क्या होता है तो उसमें कंप्यूटर के द्वारा जो 4 आउटपुट दिया गया वह हमें कंप्यूटर मॉनिटर पर दिखाया जाएगा क्योंकि यहां मॉनिटर एक आउटपुट डिवाइस है कुछ अन्य आउटपुट डिवाइस जैसे कि monitor, speaker, projecter, printer, इत्यादि

Keyboard shortcuts in hindi

Ctrl + A : Select All

Ctrl + P : Print

Ctrl + B : Bold

Ctrl + C: Copy

Ctrl + D: Font

Ctrl + V: Pest

Ctrl + X: Cut

Ctrl + Y : Redo

Ctrl + Z : Undo

Ctrl + M: Move

Ctrl + N: New File

Ctrl + O: Open File

Ctrl + E: Center

Ctrl + F: Find

Ctrl + G: Go To

Ctrl + I : Italic

Ctrl + J: JJustified

कंप्‍यूटर की संरचना (Computer Architecture) में Central Processing Unit केेन्‍द्र में रहता है  यह सारी चीजों को कंट्रोल करता है Input device द्वारा डाटा और निर्देशों को कंप्‍यूटर में एंटर किया जाता है और इसके बाद (C.P.U) Central Processing Unit डाटा को प्रोसेस करता है और आपको आउटपुट देता है

यह आउटपुट किसी भी तरीके से दे सकता है वह चाहे monitor, speaker, किसी की भी  सहायता से दे सकता है data प्रोसेेस करनेे में यह अपने दो भागोंं की मदद लेता है 

अर्थमेटीक लॉजिक यूनिट (Arithmetic Logic Unit ) 

कंट्रोल यूनिट (Control Unit)

Arithmetic logic unit – यह यूनिट कंप्यूटर के ऐसे कामों को संभालता है जोकि गणना से जुड़ी हो या फिर ऑप्शन से जुड़ी हो जैसे कि (+, ×,÷,-) इत्यादि तथा ऐसे काम जो कि हां और ना में किया जा सकता है जैसे कि कंप्यूटर से जब हम कोई फाइल डिलीट करते हैं तो उस वक्त हमें पूछा जाता है डिलीट करना है (OK) या नहीं (Cancel) और फिर हमें कोई एक ऑप्शन choose  करने को कहा जाता है तो यह सारे काम को Arithmetic logic unit संभालती है

Control Unit – कंट्रोल यूनिट का काम सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है क्योंकि एक सीपीयू के अंदर बहुत सारे छोटे-छोटे प्रोसेसर काम करती है जैसे कि Arithmetic logic unit, Input unit, Output unit इत्यादि और इन सभी processer  में तालमेल बैठाना बहुत ज्यादा जरूरी है अन्यथा यह सही तरीके से काम नहीं कर पाएंगे और यह तालमेल बिठाने का काम है Control unit करती है

Processer मैं कोर (Core) क्या होता है

दोस्तों Core एक चीज होती है जो कि प्रोसेसर के अंदर लगी होती है और कोर का काम होता है गणना करना दोस्तों कंप्यूटर पूरी तरह से गणना पर ही आधारित है यहां हर काम गणना से ही शुरू होती है और गणना से ही खत्म होती है लेकिन इसे आम आदमी के लिए समझना कठिन है इसे सिर्फ एक कंप्यूटर ही समझ सकता है

इसका मतलब यह हुआ कि जिस प्रोसेसर की core अधिक है वह प्रोसेसर अधिक जल्दी Calculate  करेगा अर्थात वह कंप्यूटर बहुत ज्यादा तेज काम करेगा 

अतः एक बहुत ज्यादा तेज कंप्यूटर के लिए उसकी Core अधिक होने चाहिए

कंप्यूटर मेमोरी क्या है (What is Computer memory)

वैसे तो हम सभी लोगों को यह पता है कि C.P.U को कंप्यूटर का मस्तिष्क कहा जाता है क्योंकि सीपीयू में ही वह सारे काम होते हैं जो कि हम कंप्यूटर में करवाना चाहते हैं और सीपीयू में उस सारे काम को कंप्यूटर हमें करके भी देता है लेकिन एक इंसानी मस्तिष्क जो की पुरानी बातों को याद रखने की भी क्षमता रखता है और यही क्षमता कंप्यूटर भी रखता है वह अपने किए गए कामों को याद रखने की क्षमता भी रखता है लेकिन यह वह प्रोसेसिंग यूनिट में नहीं करता है इसके लिए अलग से चिप लगे होते हैं और वहां वे अपने डाटा को जमा करके रखते हैं ताकि भविष्य में जब हमारी कभी उस डाटा की जरूरत हो तो कंप्यूटर हमें वह डाटा दे सके तो आइए जानते हैं कि यह डाटा कहां कहां और किस तरह से स्टोर होते हैं

कंप्यूटर मेमोरी के प्रकार (Type of Computer memory)

Primary memory – (प्राथमिक मेमोरी) इसे volatile  के नाम से भी जाना जाता है या कंप्यूटर की रफ्तार को बढ़ाने में बहुत ज्यादा मदद कर सकता है क्योंकि इसमें डाटा स्टोर तो होता है लेकिन कुछ समय के लिए जाने की जब हम काम कर रहे होते हैं उस वक्त वह डाटा को स्टोर करके रखता है लेकिन जैसे ही हमने वह काम करना छोड़ा वह अपने डाटा को तुरंत ही डिलीट कर देता है दोस्तों यह काम बहुत ज्यादा जल्दी होता है या 1 सेकेंड के अंदर एक्सो जीबी से भी ज्यादा डाटा स्टोर कर सकता है और उसे डिलीट भी कर सकता है इसमें हम भविष्य के लिए डाटा को स्टोर करके नहीं रख सकते इसीलिए इसे प्राइमरी मेमोरी कहा जाता है

Secondary memory – (सेकेंडरी मेमोरी) लेकिन दोस्तों सेकेंडरी मेमोरी के साथ ऐसा नहीं है सेकेंडरी मेमोरी में डाटा जब तक हम ना चाहे तब तक save नहीं होता है इसमें हमें डाटा को save करना पड़ता है तथा इसमें save किए हुए डाटा तब तक रहती है जब तक कि हम खुद उसे वहां से हटा ना दें और कभी-कभी तो या हमारे हटाने के बावजूद भी कुछ समय तक डाटा को अपने पास रखती है जिसे कि बाद में हम उस डाटा को फिर से जरूरत पड़ने पर निकाल सकें

Conclusion

मुझे उम्मीद है मेरे द्वारा दी गई जानकारी (Computer Notes In Hindi) आप लोगों की बहुत मदद की होगी और इससे आपको बहुत ज्यादा फायदा भी होगा होगा

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

घर बैठे पैसे कैसे कमाएं? [25,000 हर महीने]