बिहार की राजधानी क्या है? Capital of Bihar in hindi

आज हम जानेंगे कि बिहार की राजधानी क्या है? (bihar ki rajdhani kya hai) या बिहार की राजधानी कहां है? (Bihar ki rajdhani Khna hai) तथा बिहार की राजधानी की क्या क्या खासियत है? क्यों यह जगह बहुत अधिक प्रसिद्ध है पूरे भारत में?

बिहार की राजधानी क्या है? (Bihar ki rajdhani kya hai)

Bihar ki rajdhani

बिहार की राजधानी ‘पटना’ है।

भारत देश के बिहार राज्य की राजधानी पटना है जो कि बिहार राज्य के सबसे बड़ा नगर है। यही बिहार राज्य का सबसे प्रमुख शहर भी है। वर्ष 2000 से पहले झारखंड राज्य भी बिहार का ही अंग था और उस समय भी यूनाइटेड बिहार की राजधानी पटना ही थी। यदि बात करें क्षेत्रफल और जनसंख्या की तो पटना का नगरिय क्षेत्रफल 136 km ² यानी 53 वर्ग मील है। एवं वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार इस राजधानी की जनसंख्या 1644222 एवं इस महानगर की आबादी 2046652 है।

इस शहर को पहले पाटलिपुत्र के नाम से भी जाना जाता था। स्त्री एवं पुरुष के लिंग अनुपात के मामले में पटना में प्रति हजार पुरुष 897 महिलाएं हैं। बिहार राज्य में साक्षरता दर 70.9 फ़ीसदी के करीब है जो कि राष्ट्रीय साक्षरता दर से कम है। पटना शहर शिक्षा, वाणिज्य एवं चिकित्सा के क्षेत्र में अग्रसर है।

बिहार की राजधानी पटना की भौगोलिक स्थिति?

यदि बात करें भौगोलिक स्थिति की तो बिहार का पटना शहर गंगा नदी के दक्षिणी किनारे पर बसा है, जहां पर सोना नदी, घाघरा नदी, एवं गंडक नदी जैसी सहायक नदियां भी मिलती है। गंगा नदी एवं पटना शहर आपस में मिलकर एक लंबी तटरेखा बनाते हैं, साथ ही यह शहर तीन ओर से गंगा नदी से, सोन नदी से, और पुनपुन नदी से घिरा हुआ है। दुनिया का सबसे लंबा सड़क पुल महात्मा गांधी सेतु (जिसकी कुल लंबाई 5575 मीटर है) जो कि बिहार के पटना से हाजीपुर को जोड़ता है इसका निर्माण गंगा नदी पर ही हुआ है। बिहार का पटना शहर समुद्र तल से 53 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

पटना की जलवायु कैसी है?

जलवायु में पटना शहर में  गर्मी का तापमान राज्य के अन्य भागो की तरह, सीधा सूर्यातप और गर्म तरंगों के कारण उच्च ही रहता है। सिटी की तुलना में मैदानी क्षेत्रों में तापमान अपेक्षाकृत कम होता है। बिहार राज्य में मैदानी क्षेत्र काफी पाए जाते हैं और क्योंकि यह शहर नदियों से घिरा है इसलिए गर्मी के वाष्पीकरण से वहां की जलवायु में आद्रता भी साल भर बनी रहती है।

अप्रैल से जून जुलाई के महीने तक ग्रीष्म ऋतु और इसके समाप्त होने पर वर्षा ऋतु की शुरुआत होती है एवं नवंबर माह के बाद से यहां शीत ऋतु का आगमन होता है फरवरी में वसंत  तथा मार्च के बाद यह चरण दोबारा आरंभ होता है।

बिहार में मनाए जाने वाले त्योहार

संस्कृति के दृष्टिकोण से भी बिहार का पटना शहर एक परिपूर्ण शहर है। हर प्रकार के पर्व त्योहार यहां मनाए जाते हैं जिनमें दुर्गा पूजा, दिवाली, छठ पूजा, होली, गंगा दशहरा, रामनवमी, रक्षाबंधन, गोवर्धन पूजा, महाशिवरात्रि, ईद, क्रिसमस, सोहराय, कृष्ण जन्माष्टमी, गुरु गोविंद सिंह जयंती, आदि जैसे अन्य कई  त्यौहार सम्मिलित हैं।

इन सभी में छठ पूजा का विशेष महत्व होता है क्योंकि यह पूरे बिहार  के सबसे प्रमुख त्योहार में से एक होता है।

पटना के पर्यटन स्थल क्या क्या है?

पर्यटन दृष्टिकोण से भी पटना शहर में कई पर्यटन आकर्षण केंद्र मौजूद है जिनमे पर्यटकों को रुचि होती है। जिनमें पटना तारामंडल जो कि पटना में इंदिरा गांधी विज्ञान  परिसर में स्थित है, सभ्यता द्वार, कुम्हरार, अगम कुआं, किला हाउस (जिसे जालान हाउस भी कहा जाता है), महावीर मंदिर, तख्त श्रीहरमंदिर साहिब, गांधी मैदान, गांधी संग्रहालय, गोलघर, पटना संग्रहालय, श्री कृष्ण विज्ञान केंद्र, दरभंगा हाउस, सदाकत आश्रम, संजय गांधी जैविक उद्यान, खुदाबख्श लाइब्रेरी, ताराघर,  शेरशाह की मस्जिद, बेगू हज्जाम की मस्जिद, पादरी की हवेली, पत्थर की मस्जिद, शहीद स्मारक पटना आदि जैसे स्थल शामिल है। इन सभी स्थानों का अपने अपने स्तर पर काफी महत्व है।

बिहार की राजधानी पटना में परिवहन की सुविधा

परिवहन, यातायात के साधनों में आपको पटना में सड़क मार्ग, रेल मार्ग, वायु मार्ग, एवं नदियों के होने से जल मार्ग का भी  विकल्प मिलता है।

पटना में सड़क मार्ग

पटना शहर के स्थानीय परिवहन में सार्वजनिक यातायात जिसमें सिटी बस, ऑटो रिक्शा, साइकिल रिक्शा, इत्यादि आते हैं। सामान्य रूप से यहां की सड़कों में ऑटो रिक्शा यानी टेंपो का उपयोग किया जाता है। यह अन्य की तुलना में सस्ता भी होता है।

सड़क परिवहन के अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग यानी नेशनल हाईवे संख्या 31 तथा 19 पटना शहर से होकर गुजरता है एवं बिहार राज्य की राजधानी होने के कारण पटना सड़क मार्ग से राज्य के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा  है।

पटना में रेल मार्ग

रेल परिवहन में पटना शहर एक महत्वपूर्ण जंक्शन है, यहां से रेल मार्ग द्वारा देश की राजधानी दिल्ली साथ ही साथ मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, अहमदाबाद, अमृतसर, गुवाहाटी, जम्मू आदि जैसे अन्य महत्वपूर्ण शहरों के लिए भी सीधा रेल मार्ग है। यह शहर देश के अन्य प्रमुख बड़े शहरों से सीधा रेल मार्ग से जुड़ा है। पटना में बहुत जल्द मेट्रो की सुविधा भी आने वाली है जिसके लिए प्रक्रियाओं की शुरुआत हो चुकी है।

पटना में वायु मार्ग

वायु मार्ग में लोकनायक जयप्रकाश नारायण हवाई अड्डा एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो कि पटना शहर के पश्चिमी भाग में स्थित है। गो एयर, जेट एयर स्पाइसजेट और इंडिगो जैसी कंपनियां इसमें कार्यरत हैं।

गंगा नदी के तट पर स्थित होने के कारण पटना शहर में जलमार्ग का उपयोग काफी समय से होता था परंतु आज के समय में पुलो आदि के निर्माण से यह थोड़ा सिमट कर रह गया है। देश का इकलौता अंतर्देशीय नौकायन संस्थान बिहार के पटना शहर में ही स्थित है।

बिहार की राजधानी पटना में शिक्षा का स्तर

शिक्षा के क्षेत्र में पटना विश्वविद्यालय यानी पटना यूनिवर्सिटी जिसकी स्थापना 1917 में हुई थी, नालंदा मुक्त विश्वविद्यालय एवं मगध विश्वविद्यालय ऐसे विश्वविद्यालय हैं जिनके शिक्षण संस्थान पटना में है।

हाल ही में पटना में स्थित बिहार कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग को एनआईटी सनी नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी का दर्जा दिया गया है। अन्य विकल्पों में चाणक्य लॉ यूनिवर्सिटी एवं आईआईटी पटना जैसे संस्थान शिक्षा के क्षेत्र में यहां अच्छे विकल्प हैं।

बिहार की प्रसिद्ध कॉलेज तथा यूनिवर्सिटी

इनके अलावा पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय, सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ बिहार, बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, पटना मेडिकल कॉलेज, ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस, मौलाना मजहरूल हक अरबी फारसी यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एवं इंस्टिट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी जैसे संस्थान भी शिक्षा के क्षेत्र में मौजूद है । पटना यूनिवर्सिटी देश के सबसे पुराने यूनिवर्सिटी में से एक है।

खानपान के मामले में भी पटना शहर का मुख्य भोजन बिहार के अन्य राज्यों से ज्यादा अलग नहीं होता। लोगों का खान-पान एवं जीवन प्रणाली एक जैसा ही रहता है। पहले के समय की तुलना में व्यापार एवं निर्यात कम हुआ है जिसका प्रभाव यहां की अर्थव्यवस्था पर पड़ा है।

घर बैठे पैसे कैसे कमाएं? [25,000 हर महीने]